इंजीनियरिंग छात्र शुभम का अपरहण : फिरौती नहीं दी तो जान से मारने की धमकी

24 घंटे के बाद भी आरोपी पकड़े नहीं गए 

घुग्घूस (चंद्रपुर) : यहां के वेकोलि रामनगर कॉलोनी में रहने वाले एक इंजीनियरिंग के छात्र का अपहरण कर उसे छोड़ने के लिए 30 लाख रुपयों की फिरौती मांगी गई. फिरौती की राशि नहीं मिली तो छात्र को जान से मारने की धमकी भी दी गई है.  इस संबंध में पिता के मित्र श्रीकांत महुलकर ने 18 जनवरी की देर रात 1 :25 बजे घुग्घूस पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई है. अपहृत छात्र का नाम शुभम दिलीप फुटाणे (25) है.

उल्लेखनीय है कि कुछ माह पूर्व ही एक छात्र का अपहरण हुआ था. अब ये दूसरी अपहरण की घटना होने से परिसर में खलबली मची है.

मिली जानकारी के अनुसार, रविवार की शाम 5 बजे दौरान शुभम मित्रों के साथ चंद्रपुर मार्ग पर स्थित जायका होटल में भोजन करने जाने की बात बताकर टू व्हीलर से निकला. देर रात तक जब वह वापस नहीं लौटा तो उसकी मां ने उसके मोबाइल पर संपर्क करने पर एक अज्ञात व्यक्ति ने कॉल रिसीव कर उन्हें बताया कि उनके बेटे का अपहरण किया गया है, और उसे छोड़ने के लिए 30 लाख रुपए की फिरौती भी उसने मांगी.

फिरौती दो दिनों में नहीं मिली तो छात्र को जान से मारने की धमकी उन्होंने दी. उन्होंने तुरंत इसकी जानकारी छात्र के पिता को दी. रात को ही मामले की शिकायत दर्ज कराई गई, पुलिस ने धारा 364 के तहत मामला दर्ज किया.

सोमवार को पुलिस ने मामले की जांच आरंभ की. सुबह डॉ. दास के अस्पताल के पास शुभम की टू व्हीलर क्र. एमएच 34 एएस 6815 दिखाई दी. इसके बाद चंद्रपुर से डॉग स्क्वॉड को बुलाया गया. लेकिन 24 घंटे के बाद भी पुलिस के हाथ कुछ नहीं लगा है. मामले की जांच पुलिस अधीक्षक अरविंद साल्वे के नेतृत्व में थानेदार राहुल गंगुर्डे के मार्गदर्शन में सहायक पुलिस निरीक्षक संजय सिंह कर रहे है.

उल्लेखनीय है कि वगत वर्ष 3 नवंबर 2020 को घुग्घूस शहर की व्यवसायिका सनी खारकर के 7 साल के वीर नामक बेटे का अपहरण किया गया था. बाद में उसे नागपुर में छोड़ा गया था. 15 साल पहले इंदिरा नगर के वेकोलि अधिकारी के बेटे आकाश सिंह का अपहरण कर उसे जान से मारा गया था. अपहरण की घटनाएं घुग्घूस क्षेत्र में बढ़ने से अभिभावकों में दहशत का माहौल है.