रेत का अवैध उत्खनन, कार्रवाई के नाम पर सिर्फ लीपापोती

0
220

अब तक 16 हाइवा ट्रकों से की गई रेती की चोरी

घुग्घुस (चंद्रपुर) : यहां के वर्धा नदी के नकोड़ा व घुग्घुस इन दोनों घाटो के तट पर 2 हजार से अधिक ब्रास रेती शहर के करीबन 40 से 50 ट्रैक्टरों से दिन रात नदी के पात्र से अवैध तरीके से उत्खनन कर जमा की गई है।

सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार इस जमा हजारों ब्रास रेती को हाइवा ट्रकों के मध्य से सेंट्रल एमआईडीसी ताडाली परिसर में स्थित एक निर्माणअधीन इंजीनियरिंग कॉलेज में रेती की सप्लाई के साथ जिले के विभिन्न स्थानों पर भी शहर के एक बड़े तस्करों द्वारा दुगनी कीमतों में बेचा जा रहा है।

ज्ञात हो इस अवैध रेती उत्खनन व रेती की स्टॉक के संदर्भ में अनेक खबरे प्रकाशित की गई उसके बाद तहसीलदार व माईनिंग विभाग के अधिकारियों ने मात्र कुछएक ट्रैक्टरों पर कार्रवाई की लेकिन नकोड़ा के हल्या व घुग्घुस के घोड़ा रेती घाटो पर अवैध रूप से जमा की गई हजारों ब्रास रेती को जब्त नहीं किया ?

उल्लेखनीय हैं कि इन दोनों रेती घाटो पर जमा हजारों ब्रास रेती में से रविवार को 6 तो कल सोमवार को 10 हाइवा ट्रकों से खुलेआम जेसीबी मशीन से घाट पर भरकर ढुलाई होने के बाद प्रशासन की नींद खुली है।

मंगलवार की सुबह नायब तहसीलदार साल्वे व मंडल अधिकारी नवले तथा पटवारी पिल्लई घाटो पर पहुंचे। अब देखना होगा कि क्या अवैध रूप से जमा की गई हजारों ब्रास रेती को जब्त कर कार्रवाई किया जाएगा या हाथ मलते हुए लौटेंगे इस पर सबकी नज़र ठिकी हुई हैं।

विशेष बात यह है कि इसी वर्ष फरवरी माह में क्षेत्र के मंडल अधिकारी द्वारा वर्धा नदी पर 200 ब्रास से अधिक अवैध रेती की स्टॉक को जप्त की गई थी। और कुछ ही दिन बाद उसी रेती का चोरी होने का एफआईआर भी घुग्घुस थाने में दर्ज कराई गई थी। जप्त की गई रेती की प्रशासन द्वारा नीलामी भी की थी। और क्या आज भी उसी तर्ज़ पर अपना कार्य को अंजाम देने में लगे हुए हैं अधिकारी ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here