वेकोलि पैनगंगा खदान में मशीन के नीचे दबने से ASDC (गोलछा) कामगार की मौत

0
3666

फेलोडर मशीन की बंद हेडलाईट रिपेयर कर रहा था मृतक

घुग्घुस (चंद्रपुर) : वेकोलि वणी क्षेत्र के पैनगंगा खदान में कार्यरत निजी ट्रांसपोर्ट कंपनी ASDC (गोलछा) में कार्यरत इलेक्ट्रिशन की खदान के भीतर कोल फेस में शुक्रवार की देररात करीबन 2 बजे के दौरान फेलोडर मशीन के नीचे दबने से घटनास्थल पर ही मौत हो गई। इस घटना से वेकोलि में सनसनी फैल गई।

प्राप्त जानकारी के अनुसार देररात करीबन 2 बजे के दौरान पैनगंगा खदान में कार्यरत ASDC(गोलछा) निजी कंपनी के सचिन करमरकर नामक (32)वर्षीय इलेक्ट्रिशन खदान के भीतर के कोल फेस में एक फेलोडर मशीन की बैक हेडलाईट बंद होने के कारण मशीन रिपेरिंग कर रहा था वहीं अन्य फेलोडर मशीन के चालक फेलोडर मशीन को हैंड ब्रेक लगा कर चाय पीने चले गए थे। अचानक फेलोडर मशीन रोल होकर दूसरे फेलोडर मशीन का पीछे के हेड लाइट दुरुस्त कर रहे करमरकर पर टकराया इन दोनों मशीनों के बीच रिपेरर करमरकर दब गया और उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

घटना की जानकारी मिलते ही वेकोलि प्रबंधन व ASDC कंपनी के अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचेे। और उन्होंने मामले की जांच की इस संदर्भ में पुलिस को सूचना दी गई। यह घटना कैसे हुई इस संदर्भ में कामगारों में चर्चा का माहौल गर्म है। आगे की जांच वेकोलि प्रशासन कर रहा है।

सूचना मिलने पर उलगुलाल संगठन के अध्यक्ष राजू झोड़े, सूरज ठाकरे आदि ने मृतक के परिजनों को 30 लाख रुपए मुआवजा देने की मांग की. तनाव की स्थिति को देखते हुए वरिष्ठ कार्मिक प्रबंधक डी. मनोगरन, सब एरिया मैनेजर रेड्डी, एएसडीसी कंपनी के अधिकारियों के साथ बैठक ली. जिसके बाद ठेका कंपनी की ओर से 15 लाख रुपए का चेक, 50,000 रुपए अंतिम संस्कार के लिए और 15 लाख रुपए श्रमिक क्षतिपूर्ति अधिनियम के तहत देने का आश्वासन दिया गया.