Liquor King “दीपक ट्रेडर्स” की Lockdown में Unlock…

0
435

चंद्रपूर / यवतमाळ : पुरे महाराष्ट्र के साथ – साथ चंद्रपूर व यवतमाळ में भी कोरोना संक्रमणने हाहाकार मचा रखा है वहीं इस काल में भी शराब की तस्करी के कारोबार में करोड़ों में खेलकर मालामाल हो रहे है.

घुग्घुस शहर से सटा हुआ वणी तहसील के WCL भालर टाऊनशिप परिसर में 3 बीयर बार व एक देसी शराब की दुकान है बताया जाता हैं की यह टाऊनशिप की जनसंख्या मात्र 2 हजार हैं. इस टाउनशिप के सामने दीपक ट्रेडर्स नामक  लायसन्स नं. CL 3 – 134 / 2006/07 की देसी शराब की दुकान जो लाठी ग्रामपंचायत अंतर्गत आता हैं जिस की जनसंख्या महज 800 है.

ज्ञात हो की दीपक ट्रेडर्स के संचालक दीपक तिवारी के निर्देश अनुसार राजू अन्ना पल्ले सिरपुर, घुग्घुस, पडोली, चंद्रपुर पुलीस स्टेशन के आलावा एलसीबी मुख्यालय के चुनिंदा पुलिस कर्मी व अपने कुछ ‘रईस’ तस्कर साथियों को विश्वास में लेकर वर्ष 2015 से लगातार चंद्रपुर जिले के घुग्घुस, पड़ोली, चंद्रपुर, बल्लारपुर में खुलेआम अवैध शराब की आपूर्ति की जा रही हैं. राजू अन्ना व सहयोगीयो पर आनेक बार अवैध शराब तस्करी के मामले दर्ज हुए हैं फ़िर भी जिले में खुलेआम तस्करी जारी है.

विशेष बात यह है कि, मात्र 800 जनसंख्या वाली वणी तहसील के लाठी ग्रामपंचायत अंतर्गत आनेवाली यह दीपक ट्रेडर्स में सुबह से लेकर शाम तक मात्र 15 से 20 पेटियों की ही बिक्री होने के बावजूद इस दुकान में रोजाना
450 तो कभी 500 से 700 पेटियां कैसी आती हैं क्या राज्य उत्पादन शुल्क विभाग को पता नही यह समझसे परे हैं.

दुकान में रोजाना देर रत में चंद्रपुर जिले से आये हुए शराब तस्करों को दिया जाने वाला शराब पेटियों का हिसाब दुकान में मौजूद मामाजी नमक शख्स करते हैं और तस्करों से पैसों का लेनदेन और वसूली घुग्घुस के राजू अन्ना कर वगत पाँच वर्षोसे अपना एक अलग साम्राज्य बनाकर प्रशासन के आँखों में धूल झोंककर खुलेआम घूम रहा हैं.

रोजाना इस देसी शराब की दुकान से चंद्रपूर जिले में 500 से अधिक पेटियों को वर्धा नदी के घुग्घुस बेलोरा पुलिस चेकपोस्ट सीसीटीवी के नजरों से बचकर बड़ी आसानी से चौकी पार किया जाता हैं.
शराब दुकान में 2800 में प्रति पेटी के क़ीमत पर बिकती हैं जब वहीं शराब चंद्रपुर जिले में पुहंच थे ही क़ीमत बढ़कर 3500 से 4000 रुपयों में राजू अन्ना बेचकर लगभग 500 से अधिक रुपए प्रति पेटी पे मुनाफा रखकर अपने सहयोगी तस्कर व पुलिस कर्मियों को चढ़ावा चढ़ाकर मालामाल हो रहा है. इस से अंदाजा लगाया जा सकता है की प्रतिदिन लाखों रूपए की शराब दीपक ट्रेडर्स के साथ साथ अन्ना का भी आय होती हैं.

चंद्रपुर जिले की शराब बंदी के बाद से लगातार भालर से अवैध शराब की तस्करी कर रहें ‘दीपक ट्रेडर्स’ के संचालक  कभी यवतमाल या चंद्रपुर पुलिस के हत्थे क्यों नहीं चढ़ा ऐसा सवाल जनता द्वारा की जा रहें हैं…