BREAKING : उत्तराखंड में कुदरत का कहर-ग्लेशियर टूटने से भीषण सैलाब में कई लोग लापता

0
651

उत्तराखंड : चमोली जिले में रविवार सुबह ग्लेशियर टूटने से अलकनंदा नदी का जल स्तर बढ़ने के साथ ही अनिष्ट की आशंका को देखते हुए हरिद्वार जिले तक के गंगा किनारे की बस्तियों को खाली कराया जा रहा है। मिली जानकारी के अनुसार ग्लेशियर टूटने से भारी तबाही हुई है। कई ग्रामीणों के घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। कई लोगों के बहने की आशंका जताई जा रही है। पानी के तेज बहाव को देखते हुए हरिद्वार, ऋषिकेष और श्रीनगर में हाई अलर्ट जारी किया गया है।

आईटीबीपी के 200 से ज्यादा जवान बचाव कार्य में जुटे हुए हैं। SDRG की 10 टीमें भी मौके पर मौजूद हैं। राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (SDRF) के प्रवक्ता ने बताया कि पोस्ट जोशीमठ से हेड कांस्टेबल मंगल सिंह ने कहा कि जोशीमठ थाने में 10:55 बजे सूचना मिली की रैणी गांव में ग्लेशियर टूट गया है। जिसके बाद राहत और बचाव कार्य के लिए दो टीम मौके को रवाना किया गया है।

धौल गंगा (अलकनंदा) में पानी बहाव इतना तेज है कि वह डेढ़ घंटे में चमोली को पार कर चुका है। पुलिस इस प्राकृतिक आपदा के बाद हरिद्वार जिले सहित सभी संबंधित जिलों में अलर्ट जारी किया है तथा गंगा के किनारे बस्तियों को खाली कराया जा रहा है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने आपदा प्रबंधन सचिव और चमोली के जिलाधिकारी से इस बारे में पूरी जानकारी ली तथा वह लगातार पूरी स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। चमोली जिला प्रशासन, एसडीआरएफ के अधिकारी और कर्मचारी मौके पर पहुंच गये हैं। लोगों से गंगा नदी के किनारे नहीं जाने की अपील की गई है। बता दें कि कुंभ भी चल रहा है जिसके कारण उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अधिकारियों को अलर्ट रहने को कहा है।