घुग्घुस के रेती घाट पर महिला माइनिंग अधिकारी की कार्यवाई

0
481

घुग्घुस (चंद्रपूर) : आज मंगलवार सुबह लगभग 6 बजे के दरमियान माइनिंग विभाग की महिला अधिकारी अल्का खेड़कर अपनी टीम के साथ घुग्घुस के वर्धा नदी के एक रेती घाट पर छापामार कार्रवाई की। इस कार्रवाई में एक ट्रैक्टर मात्र उनके हाथ लगा और वहीँ अन्य रेती उत्खनन कर रहे ट्रैक्टर रेत खाली कर भाग खड़े हुए।

नियमानुसार जब भी रेती घाट पर जब खाली ट्रैक्टर भी मिलता हैं तो जुर्माना वसूला जाता हैं लेकिन बाकी ट्रेकरों पर कार्रवाई क्यों नहीं किया गया यह सवाल उठने लगा है। बता दे की पिछले कई दिनों से घुघुस परिसर के रेत घाटों से अवैध रूप से रेत की तस्करी होने की खबर Newspost द्वारा प्रकाशित की गई थी।

जिसके बाद आज अचानक प्रशासन जाग गया और रेत घाट पर पहुचकर अवैध रेत की तस्करी करने वाले 1 ट्रेक्टर पर कार्रवाई की गई तो अन्य की जांच शुरू है।
इस से पूर्व ऑक्टोबर माह में इस महिला माइनिंग अधिकारी तथा 4 बार तो तहसिलदार ने एक ट्रैक्टरों पर कार्रवाई कर जुर्माना वसूला।

जब माइनिंग अधिकारी अल्का खेड़कर से संपर्क कर पूछने पर उन्होंने बताया कि जो वर्धा नदी के घुग्घुस व नकोड़ा घाटो पर तस्करों द्वारा जमा कि गई हजारों ब्रास रेती के स्टॉक को जप्त करने तहिसिलदार को पत्र लिखा है, और वह रेती की स्टॉक को तहसीलदार द्वारा जप्त किया जाएगा। नकोड़ा के वर्धा नदी के दोनों रेती घाटों पर से दिन रात 24 घंटे हजरों ब्रास अवैध रेती उत्खनन की जा रही हैं। शहर के सामाजिक कार्यकर्ता तिवारी ने जिलाधिकारी को पत्र लिखकर शहर में खुलेआम चल रहे अवैध उत्खनन पर अंकुश लगाने व कार्रवाई करने मांग की थी।

जिलाधिकारी अजय गुलाने द्वारा विशेष ध्यान देकर घुग्घुस में चल रहे अवैध रेती पर अंकुश लगाए और दो हजार से अधिक तस्करों द्वारा जमा की गई रेती को जप्त कर नीलामी करने की मांग स्थानीय नागरिकों द्वारा की जा रही हैं।