Suicide Spot तो नहीं बन रहा पाटाला नदी का पुल !

0
449

पहले वेकोलि के अधिकारी ने की थी आत्महत्या, कल युवक ने नदी में लगाई छलांग

माजरी (चंद्रपुर) : कल वणी तहसील के उकनी निवासी 24 वर्षीय युवक के पाटाला में स्थित वर्धा नदी के पुल पर से छलांग लगाने घटना के बाद ये जगह कहीं सुसाईड का स्पॉट तो नहीं बन रहा है?
ऐसा सवाल उठने लगा है.

छलांग लगाने वाले युवक का नाम ईश्वर शिवशंकर शुक्ला (24) है. उल्लेखनीय है कि कोरोना के संक्रमण काल के दौरान लगातार आत्महत्याओं की घटनाएं घटित हो रही है.
जानकारी अनुसार, युवक ने अपनी बाइक नदी के पुल पर खड़ी की और रात 7 बजे के दौरान नदी में छलांग लगाकर आत्महत्या कर दी. उल्लेखनीय है कि घुग्घूस के वेकोलि अधिकारी अमित पोले (30) ने भी इसी तरह वर्धा नदी के पुल पर से छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली थी. उसने 11 सितंबर को आत्महत्या कर ली.
इसी तरह कोना ग्राम की निवासी दो चचेरी बहनों ने भी रेलवे के पुल पर से नदी में छलांग लगाकर आत्महत्या करने की घटना 10 सितंबर को घटित हुई है. अगले दिन कावड़ी गांव के पास उनमें से एक ज्योति श्रीकृष्ण परचाके (20) जिंदा मिली. हालांकि उसकी बहन आंचल शंकर परचाके (19) की मौत हो गई.

युवक ईश्वर शुक्ला का अबतक पता नहीं चला है. प्रशासन की ओर से उसकी खोजबीन की जा रही है. ईश्वर, पंजाब ट्रान्सपोर्ट कंपनी में टायर हेल्पर के तौर पर कार्यरत था. सनद रहे कि 7 सितंबर को उकनी गांव के ही वाल्वो कंपनी में ड्रायवर आकाश दर्वेकर (28) ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. लोगों का कहना है कि कोरोना के संक्रमण के दौरान लोग परेशानियों में घिरने की वजह से आत्महत्या करने जैसा कदम उठाने लगे है.